include_once("common_lab_header.php");
Excerpt for रंग बिहारी by , available in its entirety at Smashwords


प्रकाशक

वर्जिन साहित्यपीठ
78, अजय पार्क, गली नंबर 7, नया बाजार,
नजफगढ़, नयी दिल्ली 110043





सर्वाधिकार सुरक्षित
प्रथम संस्करण - अप्रैल 2018
ISBN




कॉपीराइट © 2018
वर्जिन साहित्यपीठ






कॉपीराइट

इस प्रकाशन में दी गई सामग्री कॉपीराइट के अधीन है। इस प्रकाशन के किसी भी भाग का, किसी भी रूप में, किसी भी माध्यम से - कागज या इलेक्ट्रॉनिक - पुनरुत्पादन, संग्रहण या वितरण तब तक नहीं किया जा सकता, जब तक वर्जिन साहित्यपीठ द्वारा अधिकृत नहीं किया जाता।



रंग बिहारी
(काव्य संग्रह)






कवयित्री
गुड़िया पाण्डेय











गुड़िया पाण्डेय


सम्पर्क:

7091347077

kumariguriya16795@gmail.com


जन्म:

16/7/1995


पिता:

जगदीश पाण्डेय


निवास:

बथना कुट्टी, नेचुआ जलालपुर, गोपालगंज (बिहार)


शिक्षा:

स्नातकोत्तर (भूगोल)


सोचतानी एगो कविता लिखी

जेहमे होखे माई के प्यार,
बाबूजी के डाट फटकार।
दिदिया के होखे पुचकार,
दादी जी के परम दुलार।

सोचतानी एगो कविता लिखी।

जेह में होखे गाँव के गोरी,
चइता कजरी झुमरी होरी।
सतुआ, भुजा, मड़ुआ, मकई,
चमन फुलेसर नथुनी मुनरी।

सोचतानी एगो कविता लिखी।

होखे जेहमें सबके सहयोग,
भागे सगरी गाँव के रोग।
अइसन बने इहाँ संजोग,
रहे सभे मिल जुल के लोग।


Purchase this book or download sample versions for your ebook reader.
(Pages 1-3 show above.)