include_once("common_lab_header.php");
Excerpt for Mera Pyaar by , available in its entirety at Smashwords

MERA PYAAR


****


हिरण्य बोराह



Copyright 2018 Hiranya Borah


Smashwords Edition







Smashwords Edition, License Notes



Thank You for downloading this ebook. This book remains the copyrighted property of the author, and may not be redistributed to others for commercial or non-commercial purposes. If you enjoyed this book, please encourage your friends to download their own copy from their favourite authorized retailer. Thank you for your support.

प्रस्तावना

हिन्दीमे अत्याधिक ख़राब होने के बाजूद भी मेरा यह एक प्रयास मात्र हें हिन्दीमे कुछ लिखने का. अगर आप्लोगोको यह प्रयास अच्छा लगेतो मेरा बेहद ख़ुशी होगी.

हमेशा मेरा साथ देने के लिए में SMASHWORDS Publicationको बहुत बहुत धन्यवाद देता हु

कवि

अगर तुम ना होते

अगर तुम ना होते,

मैं शायद दुखी ना होता.

शायद मेरा नाज़ुक सा दिल,

आज भी मेरे साथ होता.

उड़ान

एक फूलोको मुस्कुरानेकेलिए,

एक भवरका चुम्बन जरूरी हें.

एक भव्राको आकाशको चुने के लिए,

एक फूलोका मुस्कुरानाभी जरूरी हें.

आसमान

में नही जानता,

आसमान कितना उशी हें

सागर कितना गहरा हें.

चिरिया जैसे पंख नही हें मेरा,

ताकि मे असमान भी माप लू.

ना मछली जेसा मेरा तन हें,

सागर का गहराई तक पहुच पाता.

लेकिन मेरा दिल कहता हें,

मेरा दर्द असमान से भी उचा हें,

और मेरा प्यार सागरसे भी गहरा हें.

तुम्हारेलिये में जान ले भी सकता हु,

तुम्हारेलिये में जान दे भी सकता हु.

दो पैग के बाद

तेरी जुल्फों में मेरा वादा है,

तेरी आँखो में मेरी आशा है;

लेकिन तेरी नज़ाकत में जो नशा है;

वो मेरी धड़कन है ;

उसके आगे तो सब फ़ीका पड़ जाता है.

शिकार

ग़ालिब तो तेज़ शिकारी थे,

हमेशा उनका तीर निशाने में होता.

मैं तो हमेशा शिकार ही रहा हूँ,

हर हसीना का हर तीर

मेरे सीने से आर-पार होता है.

दर्द

तुमने मुझे जितना दर्द दिया ,

एक जिन्दगी जीने के लिए काफी है.

और जितना प्यार दिया

एक मौत के लिए इतना ही काफ़ी है.





अंधा प्यार

आहट से पता चलता है,

तुम आयी हो 
खुशबू से पता चलता है,

तुम मेरे पास हो 
हवा के झौंके से पता चलता है,

तुम चली गई हो
हवा की नमी से पता चलता है,

तुम रो रही हो 
फूलों की खुशबू से पता चलता है,

तुम हँस रही हो 
मेरे पास आँख नहीं है तो क्या हुआ 
मेरे पास एक नाजुक सा दिल तो है |

मेरा प्यार

जब जब मैं तुमसे बोलता हूँ

तुमसे मुझे प्यार है’

मुस्कुराकर टाल देती हो

तुम झूठे हो’.

जिंदगी भर इंतज़ार में हूँ

कभी तो एक बार मेरी खातिर झूठ बोलोगी,

मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ.’

एक तमन्ना

बरसों से खा रहा हूँ

बरसों से पी रहा हूँ

फिर भी ना प्यास बुझी,

ना भूख मिटी.

, सुंदर हसीना,

हो सके तो एक प्याला ज़हर ही पीला दो

ताकि मेरे मरे हुए दिल में भी

एक बार तमन्ना जाग उठे.,

और एक प्याला जहर पी जाऊँ

सिर्फ तुम्हारे लिए.

एक आम आदमी

ना नाचना आता है,

ना गाना आता है,

फिर भी मैं धरती का बोझ नहीं हूँ.

मैंने भी प्यार किया,

मैंने भी मोहब्बत की,

किसी को माँ समझ कर,

किसी को बहन समझ कर,

किसी को बेटी समझ कर,

और किसी को ज़िन्दगी समझ कर.

भिगी भिगी रातों में किसी के लिए इंतज़ार भी किया,

तूफानी रातों में भी बाहर निकल गया अपने प्यार के लिए.

अँधेरी रातों में अपने दिल को भी झूठा माना,

अँधेरी रातों में अपनी धड़कनों से भी कभी नहीं, तो कभी डरा,

तो मैं क्यों ना समझूँ, कि मैं धरती का बोझ नहीं हूँ.

चांदनी रातों में अपनी परछाइयों से भी मैं कभी डरा था,

कभी पूरी रात ना सोया किसी की धुन में,

कभी पूरी रात ना सोया किसी को खोने से,

तो मैं क्यों ना समझूँ कि मैं धरती का बोझ नहीं हूँ.

ना नाचना आता है,

ना गाना आता है,

फिर भी मैं धरती का बोझ नहीं हूँ.

मैंने भी प्यार किया,

मैंने भी मोहब्बत की,

किसी को माँ समझ कर,

किसी को बहन समझ कर,

किसी को बेटी समझ कर,

और किसी को जिन्दगी समझ कर.

मेरी माँ

बचपन में कभी अपनी माँ को ही

दुनिया की माँ समझता था,

पर स्कूल जाते ही पता चला

हमारी एक और माँ है;

मुझे चिल्लाने दिया

जय आई असम’.

फिर मैं दिल्ली पहुँचा,

मुझे बताया गया

भारत माता की जय’.

और कुछ बड़ा हुआ,

मेरी अंतरात्मा ने बोला

धरती माँ महान है’.

कश्मकश चलती रही,

कौन मेरी असली माँ है.

एक दिन मेरी माँ चल बसी,

मुझे उस दिन एहसास हुआ

धरती माँ ही सबकी माँ है;

असोमी आई’ को पूजा कोरो तो,

भारत माँ’ भी खुश रहेगी,

भारत माँ’ की सेवा करोगे तो

धरती माँ’ को भी सुकून मिलेगा.

एक दुआ

कभी ना मैंने गुज़ारिश की

तुम मुझे प्यार करो

लेकिन,

मैं हमेशा भगवान से दुआ मांगता हूँ,

मेरा प्यार तुम्हारे लिए कभी ख़त्म ना हो.

पहला प्यार

तुम मेरा पहला और आखरी प्यार हो,

मैं जानता हूँ:

मैं तुम्हारा पहला प्यार नहीं हूँ.

तुम चाहती हो तो,

मैं तुम्हारा आखिरी प्यार तो हो सकता हूँ.

The author is a Government servant and a man of vivid experiences derived from his official postings across the country, travels across India and numerous visits outside India. He is presently placed at New Delhi.

His earlier publications are:

1. Random Thoughts through a Coloured Prism (hard copies available)

2. Dilemma of a Young Mind

3. Funny Statistics and Serious Statisticians

4. Melody of Fragrance (hard copies available)

5. Akhadya

6. Few Cities through the Lens of Hiranya Borah

7. Guilt: Gift of Winter Spring (hard copies available)

8. Beautiful Ghost
9. Great Fighters: Grace of God

10. All Blurred

11. Putting kids to sleep

12. How to become unpopular

13. Soulmates

14. My grumpy Face

15. Love and Worries

16. Discussion of own Birth: A Taboo

17. Interview

18. Indecent Love Affairs

19. My Fair Lady

20. Waiting time

21. Two Stories

22. My Mother: Dashami Borah

23. Parineeta

24. Manorama

25. Unwanted

26. First Attempt

27. A father

28. The Portrait

29. Snapped Thread

30. Only He Knows

31. The Stupid Mother

32. The Same Old Story

33. The Old Scoundrel

34. Third Attempt

35. Some of my First Days and First Nights

36. Snubbed Twice

37. Have You Met the God

38. Frequent Flier

39. Messiah

40. Forgive and Forget

41. To Win or to lose

42. Call Girl

43. Beyond Blood Relation

44. Lady with a Black Car

45. My wife

46. Complete Woman

47. Diwali Gift

48. Romance with a Lady

49. Open Heart Surgery

50. My First Love

51. Replacement

52. Pebbles on My Way Home

53. My First Bengali Book

54. Murder Mystery

55. Niharika

56. Swapping

57. Make a Habit to Thank God

58. Killing of a Bird

59. The Hero

60. Fantasy versus Reality

61. The Party

62. Road Rage

63. Death of a Friend

64. Cannot Live with Memory Only

65. None Cares for Me

66. A Tribute to My Guru

67. Two Professionals

68. The Choice

69. The Elusive Spouse

70. First Encounter with A P

71. Plane Crash

72. Plane Crash Part-II

73. Plane Crash Part-III

74. Abducted

75. A Bag of Currency

76. Suitable Groom

77. Head Hunters

78. My Dear Sister

79. Selection While Waiting at the Airport

80. Oh Shit

81. Perverse

82. He Got Back His Wife

83. Beautiful Faces

84. Elder Sister

85. Good Morning

86. Prey

87. Pass on your Death to Someone Else

88. Colour of Holi

89. Why blame others

90. A Forbidden Issue

91. Hat-trick of Failures

92. Agony of Writers

93. Contrasts

94. Three Directors

95. An Unusual Love Affair

96. Birth Day

97. Do not Tell Anyone

98. Anupama

99. Late By Ten Years

100. Murder in a Foreign City

101. Strange Life

102. I love You Darling

103. Falsehood

104. Lady in the Park

105. Do Anything, I Shall comment

106. Professionalism

107. Art of Flirting

108. Are We Human

109. Old man and a Dog

110. Relation with Relatives

111. Sun and Cloud

112. My Second Lover

113. In a Meeting

114. Love at First Sight

115.A Psalm of Life

116.He Wants a Solution

117. Wings

118. Twenty-five Love Stories (under Print)

119. Me and a Dozen Plus One Ghost Stories

120. Aparajeeta: Twenty Seven Short Stories

121. Nothing Official As Such

122. Illustrated Kids’ Story

124. Broken Heart

125 Random Stories and Dilemma on an Old Man

126. A Phone Call

127. Revenge

128. Men, Women, Dogs and Bitches



Connect with him

Email: hbmb@rediffmail.com

Friend him on Facebook: hbmb@rediffmail.com

Tweeter: hbmb@rediffmail.com


Download this book for your ebook reader.
(Pages 1-20 show above.)